बायोलॉजी क्या है – Biology in Hindi

बायोलॉजी क्या है- Biology in Hindi ” यह एक बहुत ही साधारण लेकिन महत्वपूर्ण प्रश्न है और कई बार हमसे पूछ लिए जाते हैं यदि आपको इस सवाल का जवाब नहीं पता है तो, यह पोस्ट आपके लिए बहुत ही ज्ञानवर्धक साबित होने वाला है

क्योंकि आज हम Meaning of Biology in Hindi यानी बायोलॉजी का मतलब, Biology Gk in Hindi, Father of Biology in Hindi और List of Branches of Science यानी विज्ञान की शाखाएं,  इन सभी प्रश्नों से जुड़े हुए चीजों को हम अच्छी तरीके से समझेंगे और जीव विज्ञान से जुड़े हुए वैज्ञानिकों के बारे में भी जानेंगे, यदि आप इन सभी सवालों का जवाब विस्तृत रूप में जानते हैं तो कृपया इस आर्टिकल के साथ बने रहे.

इसे भी पढ़े► आवर्त सारणी हिंदी में- Periodic table in Hindi Trick

हमारी धरती की आयु कितनी है यह सीधे तौर पर नहीं कहा जा सकता है. परंतु एक अनुमान के अनुसार पृथ्वी की आयु 4 .54 मिलियन वर्ष है. पुरानी इस धरती पर कई जीव जंतु आए और विलुप्त भी हो गए इनमें से डायनासोर एक उदाहरण है

डायनासोर की उत्पत्ति और विलुप्त होने का कारण सिर्फ जीव विज्ञान को पता है. जीव विज्ञान यानी बायोलॉजी का अध्ययन करके हम किसी भी जीव जंतु की उत्पत्ति और विकास का पता लगा सकते हैं. अब आप समझ गए होंगे कि जीव विज्ञान यह कितना महत्वपूर्ण है आइए जानते हैं बायोलॉजी क्या है

इस post को पढ़ने के साथ आप कंप्यूटर में रूचि रखते है तो`PH Scale और PH Value Chart क्या है  के पोस्ट को भी ज़रूर पढ़े|

Biology in Hindi Father of Biology and Biology full form

Biology in Hindi Father of Biology and Biology full form

 

बायोलॉजी क्या है? – Full Form of Biology?

Biology Ka Full Form नहीं होता है, बायोलॉजी अपने आप में ही एक पूरा शब्द है बायोलॉजी एक ग्रीक भाषा के शब्द से लिया गया है, जिसमें Bio का मतलब Life यानी जीवन और Logy का अर्थ Study यानी अध्ययन है

अगर इन दोनों शब्दों को मिलाकर देखा जाए तो बायोलॉजी का पूरा नाम (Meaning of Biology in Hindi) जीवन का अध्ययन यानी Study Of Life होता है

  • Bio Means Life 
  • Logy Means Study
  • Full Form of Biology –  Study of Life

जीव विज्ञान शब्द का प्रयोग सर्वप्रथम लैमार्क एवं ट्रेविरेनस नामक वैज्ञानिक ने 1801 ई. में किया था. जीव विज्ञान में जीव जंतु और पेड़ पौधे दोनों का अध्ययन अलग अलग किया जाता है दोनों के अध्ययन का आधार अलग-अलग होने के कारण ही बायोलॉजी को दो भागों में बांटा गया है

जंतु के अध्ययन को Zoology कहा जाता है और पेड़ पौधे के अध्ययन को Botany कहा जाता है इन्हीं दोनों के कॉन्बिनेशन को बायोलॉजी कहते हैं

इसे भी पढ़े►वैदिक गणित क्या है इसके सूत्र, अर्थ और प्रयोग

 

जीवों का पाँच जगत वर्गीकरण- Five Kingdom Classification

R.H Whittaker (1969)  नाम के एक जीवविज्ञानी ने समस्त जीवो को 5 जगतो में बाँटा गया है.

 

Five Kingdom Classification Proposed by R.H Whittaker (1969)

 

1. मोनेरा (MONERA) 

मोनेरा में जीवाणु (Bacteria), सायनोबैक्टीरिया (नीला हरा शैवाल) और आर्कीबैक्टीरिया इसके उदहारण है, ये सभी प्रोकैरियोटिक जीव होते है. इनकी कोशिका संरचना प्रोकैरियोटिक (prokaryotes) होती है, तन्तुमय जीवाणु को भी इसी जगत में रखा गया है.

 

2. प्रॉटिस्टा (PROTISTA)

जीव विज्ञानी ने इस जगत में एककोशकीय यूकैरियोटिक जीव को रखा, अक्सर इस जगत के जीव अपना पोषण अवशोषण और प्रकाश संश्लेषक की मदद से करते है, यानि ये अपन भों स्वयं बनाते है. इनमे प्रजनन: अलैंगिक और लैंगिक दोनों माध्यम में होता है,

एककोशिकीय कवक, क्लोरेला, युग्लीना, ट्रिपैनोसोमा, प्लाज्मोडियम, अमीबा, पैरामीशियम, क्लामिडोमोनास आदि इसके उदाहरण हैं|

इसे भी पढ़े► Internet क्या है-Full form of Internet

 

3. पादप (PLANTAE) 

पादप नाम के इस जगत में जीव विज्ञानी ने  शैवाल व बहुकोशिकीय हरे पौधे, प्रकाश संश्लेषी उत्पादक जीव जैसे शैलवा,मॉस,पुष्पीय तथा अपुष्पीय बीजीय पौधे को रखा है.

 

4. कवक (FUNGI)

इस जगत में ऐसे जीव को शामिल किया गया है जो अपने भोजन के लिए मृत पदार्थों पर निर्भर होते है. इसलिए इन्हें परजीवी अथवा मृतोपजीवी कहते है, खमीर और मशरूम आदि इसके उदाहरण हैं|

 

5. एनिमेलिया (ANIMALIA)

बहुकोशिकीय जंतु, यूकैरियोटिक कोशिका वाले जीव शामिल होते हैं | इसे ‘मेटाजोआ के नाम से भी जाना जाता है. इसमे कशेरुकी, कशेरुक, बहुरंगी यूकेरियोट्स जैसे जीवो को शामिल किया गया है, जैसे साँप, मनुष्य, घोडा इत्यादि

इसे भी पढ़े►IQ क्या होता है- IQ Full Form

 

बायोलॉजी के पिता किसे कहा गया है- Father of Biology in Hindi

आसान भाषा में कहा जाए तो, प्राकृतिक में पाए जाने वाले जीव जंतु और पेड़ पौधे के अध्ययन को जीव विज्ञान कहा जाता है, यह कथन Greek Philosopher Aristotle (अरस्तु ) के द्वारा कहा गया.
अब सवाल यह आता है कि, इस जीव विज्ञान का खोज किसने किया अर्थात  जीव विज्ञान का पिता (Father of Biology) किसे कहा जाता है.

बात 4 वीं शताब्दी की है जब एक ग्रीक दार्शनिक अरस्तु, Lesvos की यात्रा करते करते एक Aegean teeming नाम के द्वीप पर पंहुचा और वहाँ उसने विभिन्न प्रकार के  जीवित जानवर, पौधे, कवक और भी कई जीवित चीजों के जीवन का अध्ययन किया.

इन्ही विज्ञान के महत्वपूर्ण ख़ोज और अध्ययन करने के कारण अरस्तु को जीव विज्ञान का पिता यानी Father of Biology कहा गया

अक्सर, UPSC, SSC, State Services, NDA, CDS और Railways जैसी प्रतियोगी परीक्षाओं में विभिन्न शाखाओं के जनक (Father of Different Branches of Biology) के बारे में प्रश्न पूछ लिए जाते है,

जीव विज्ञान की शाखा जीव विज्ञान के पिता
वनस्पति विज्ञान के जनकथियोफ्रेस्टस
जूलॉजी के जनकअरस्तू
जीव विज्ञान के जनकअरस्तू
आधुनिक वनस्पति विज्ञान के जनकलिनिअस
एंडोक्रिनोलॉजी के पिताथॉमस एडिसन
इम्यूनोलॉजी के पिताएडवर्ड जेनर
एग्रोनॉमी के जनकपीटर डे-सेसेनजी
जेनेटिक्स के जनकजीजे मेंडल
आधुनिक जेनेटिक्स के पिताटीएच मोर्गन
Cytology के पितारॉबर्ट हूक
पैलियोलॉजी का पिताएर्डमैन
माइकोलॉजी के जनकमिशेली
प्लांट फिजियोलॉजी के फादरस्टीफन हेल्स
जीन थेरेपी के जनकएंडरसन
पॉलीजेनिक वंशानुक्रम का जनककोलरेक्टर
सर्जरी और प्लास्टिक सर्जरी के जनकसुश्रुत
एनाटॉमी के जनकहरोफिलस
नैतिकता का पिताकोनार्ड लोरेंट्ज़
क्लोनिंग के जनकइयान विल्मट
कीमोथेरेपी के पितापॉल एर्लिच
ब्रायोलॉजी का पिताजोहान हेडविग
उत्परिवर्तन का जनकह्यूगो डे व्रीस
जेनेटिक इंजीनियरिंग के जनकपॉल बर्ग
आयुर्वेद के जनकचरखा
टैक्सोनॉमी के पिताकैरोलस लिनिअस
भ्रूणविज्ञान के जनकअरस्तू
रक्त परिसंचरण के पिताविलियम हार्वे
चिकित्सा के जनकहिप्पोक्रेट्स
रक्त समूहों के पिताकार्ल लैंडस्टीनर
पैलेंटोलॉजी के पितालियोनार्डो दा विंसी
डीएनए फिंगर प्रिंटिंग के जनकगरोड़ ( Garrod )
गेरोन्टोलॉजी के पिताकोरेंशेवस्क
जीवाणु विज्ञान के जनकरॉबर्ट कोच
एंटीबायोटिक्स के जनकअलेक्जेंडर फ्लेमिंग
पैथोलॉजी के जनकरूडोल्फ विरचो
वायरोलॉजी के जनकWM स्टेनली
महामारी विज्ञान के पिताजॉन स्नो
एंडोक्रिनोलॉजी के जनकथॉमस एडिसन
होम्योपैथी के जनकहैनिमैन

 

विज्ञान की शाखाएं – List of Branches of Science in Hindi

डलहौजी यूनिवर्सिटी के अध्ययन के अनुसार पृथ्वी पर लगभग 80 लाख 70 हजार जीव जंतु और 30,000 पेड़ पौधे की प्रजातियों है, इस विशाल धरती पर इतनी सारी प्रजातियों का अध्ययन करना मुश्किल है इसलिए इन सभी के अध्ययन के लिए अलग अलग  विज्ञान की शाखाएं (Branches of Science) बनाई गई है. जैसे

  1.  पेड़ पोधो का अध्ययन के लिए – वनस्पति विज्ञान (Botany)
  2. जीव जन्तुओ का अध्ययन के लिए – जन्तु विज्ञान (Animal science)
  3. सूक्ष्मजीव का अध्ययन के लिए – सूक्ष्मजीव विज्ञान (Microbiology)

अगर आप जीव विज्ञान में रूचि रखते है तो  आपको Biology Gk in Hindi और List of Branches of Science को ज़रूर पढ़ना चाहिए.

क्रम संख्याविज्ञान की शाखाओ के नाम विज्ञान की शाखाओ का अध्ययन
1एनाटोमीशरीर एवं विविध अंगो की विच्छेदन द्वारा प्रदर्शित सकल रचना
2एंथ्रोपोलॉजीमानव जाति के सांस्कृतिक विकास का अध्ययन
3एंजिओलॉजीपरिसंचरण तंत्र का अध्ययन
4एयरोबॉयोलॉजीउड़ने वाले जंतुओं का अध्ययन
5एरेकनोलॉजीमकड़ियों का अध्ययन
6बायोमेट्रिक्सजीव विज्ञान के प्रयोगों के विभिन्न परिणामों का सांख्यिकी विश्लेषण व अध्ययन
7साइकोबायोलॉजीजंतुओं की मनोवृत्ति का अध्ययन
8जूजियोग्राफ़ीपृथ्वी पर जंतुओं के वितरण का अध्ययन
9पेलियेन्टोलॉजीजीवाश्मों का अध्ययन
10फाइलोजेनीजाती के उद्विकास का इतिहास
11आन्टोजेमीजीवन वृत्ति का अध्ययन
12ट्राफोलॉजीपोषण विज्ञान
13प्रोटोजोआलॉजीप्रोटोजोआ का अध्ययन
14रेडियोलॉजीजीवों पर विकिरण प्रभाव का अध्ययन
15सार्कोलॉजीपेशियों का अध्ययन
16सिन्डेस्मोलॉजीकंकाल संधियों एवं स्नायुओं का अध्ययन
17सिरोलॉजीरुधिर सीरम का अध्ययन
18टेक्टोलॉजीशरीर के रचनात्मक संघटन का अध्ययन
19टेक्सोनॉमीजीवजातियों के नामकरण एवं वर्गीकरण का अध्ययन
20टटोलॉजीउपार्जित लक्षणों का अध्ययन
21टॉक्सिकोलॉजीजंतुओं के लिए विषैले पदार्थों और शरीर पर इनके प्रभावों का अध्ययन
22एन्जाइमोलॉजीउत्प्रेरकों का अध्ययन
23एंटोमोलॉजीकीट पतंगों का अध्ययन
24जेनेटिक्सजीवों के आनुवंशिक लक्षण एवं उनकी वंशागति का अध्ययन
25हिस्टोलॉजीसूक्ष्मदर्शी द्वारा अंगों की औतिक संरचना का अध्ययन
26हीमेटोलॉजीरुधिर एवं रुधिर रोगों का अध्ययन
27हेल्मिन्थोलॉजीपरजीवी कृमियों का अध्ययन
28हर्पेटोलॉजीउभयचारियों एवं सरीसृपों का अध्ययन
29इक्थियोलॉजीमछलियों का अध्ययन
30इम्यूनोलॉजीसंक्रमण के विरुद्ध जंतु शरीर के प्रतिरोध का अध्ययन
31कैरियोलॉजीकेन्द्रक का अध्ययन
32मार्फोलॉजीजंतुओं की आकृति एवं रचना का अध्ययन
33मायोलॉजीपेशियों का अध्ययन
34मेमेलोलॉजीस्तनधारियों का अध्ययन
35मेलेकोलॉजीमोलस्का एवं इनके खोलों का अध्ययन
36मॉलिक्युलर बायोलॉजीआणविक स्तर पर जंतुओं की रासायनी का अध्ययन
37माइक्रोबायोलॉजीअतिसूक्ष्म जीवों का अध्ययन
38न्यूरोलॉजीतंत्रिका तंत्र का अध्ययन
39ऑस्टियोलॉजीकंकाल तंत्र का अध्ययन
40ओडोन्टोलॉजीदन्त विज्ञान संबंधी अध्ययन
41ऑर्गेनोलॉजीअंग विज्ञान संबंधी अध्ययन
42ऑर्निथोलॉजीपक्षियों का अध्ययन
43ऑफियोलॉजीसाँपों का अध्ययन
44फीजियोलॉजीशरीर के विभिन्न भागों के कार्य एवं कार्य विधियों का अध्ययन
45पारासिटोलॉजीपरजीवी जीवों का अध्ययन
46पैथोलॉजीरोगों की प्रकृति, लक्षणों एवं कारणों का अध्ययन
47बॉयोमिक्सजन्युओं के तंत्रिका तंत्र का अध्ययन
48सायटोलॉजीकोशिकाओं का बहुमुखी अध्ययन
49क्रेनिओलॉजीकरोटि का अध्ययन
50इकोलॉजीसजीव एवं निर्जीव वातावरण से जीवों के विविध संबंधों का अध्ययन
51एक्सटर्नल मॉर्फोलॉजीजीवों के शरीर की बाहरी संरचना का अध्ययन
52एंडोक्राइनोलॉजीअन्तःस्त्रावी तंत्रों का अध्ययन
53इथोलॉजीजंतुओं के व्यव्हार का अध्ययन
54एम्ब्रायोलॉजीभ्रूणीय परिवर्धन का अध्ययन
55इवोल्यूशनजीव जंतुओं का उद्भव एवं विभेदीकरण का इतिहास
56यूजेनिक्सआनुवांशिकी के सिद्धांतों द्वारा मानव जाती की उन्नति का अध्ययन
57यूफेनिक्स कोशिकाओं में जीन →RNA →प्रोटीन श्रंखला में परिवर्तन करके मानव जाति की उन्नति का अध्ययन
58एग्रोस्टोलॉजीघासों का अध्ययन एवं पालन
59बायोमेट्रिक्सजीव वैज्ञानिकों के प्रेक्षणों का गणितीय विवेचन
60हिस्टोलॉजीऊतकों का अध्ययन
61एल्गोलॉजीशैवालों का अध्ययन
62एन्थोलॉजीफूलों का अध्ययन
63एनाटोमीआतंरिक संरचना का अध्ययन
64टेक्सोनॉमीपादप वर्गीकरण का अध्ययन
65स्पर्मोलॉजीबीजों का अध्ययन
66स्पेसबायोलॉजीअंतरिक्ष ततः वायुमण्डल में स्थित पादपों का अध्ययन
67फाइटोजिओग्राफीपौधों के वितरण एवं उनके कारणों का अध्ययन
68टेरिडोलॉजीटेरिडोफाइट्स का अध्ययन
69बैक्टीरियोलॉजीजीवाणुओं का अध्ययन
70ब्रायोलॉजीब्रायोफाइटा का अध्ययन
71केसीडियोलॉजीपादप में रोगजन्य गाँठों, पादप कैंसर का अध्ययन
72साइटोलॉजीकोशिकाओं का अध्ययन
73डेंड्रोलॉजीवृक्षों एवं झाड़ियों का अध्ययन
74डेंड्रोकोनोलॉजीवृक्षों की आयु का अध्ययन
75इकोलॉजीपौधों का वातावरण से संबंध का अध्ययन
76इकोनॉमिक बॉटनीआर्थिक महत्त्व के पौधों का अध्ययन
77एम्ब्रियोलॉजीयुग्मकों के निर्माण, निषेचन एवं भ्रूण के परिवर्धन का अध्ययन
78इथेनोबॉटनीआदिवासियों द्वारा पादप के उपयोग का अध्ययन
79इवोल्यूशनसजीवों के विकास प्रक्रम का अध्ययन
80एक्सोबॉयोलॉजीअन्य ग्रहों पर संभावित जीवों की उपस्थिति का अध्ययन
81फ्लोरीकल्चरसजावटी फूलों का संवर्धन एवं अध्ययन
82फॉरेस्ट्रीवनों का अध्ययन
83जेनेटिक्सआनुवांशिकता एवं विभिन्नताओं का अध्ययन
84जेनेटिक इंजीनियरिंगकृत्रिम जीन का निर्माण एवं स्थानांतरण का अध्ययन
85जेरोन्टोलॉजीआयु के साथ जीवों में होने वाले परिवर्तन का अध्ययन
86हेरीडिटीपैतृक लक्षणों का संतति में पहुंचने का अध्ययन
87लाइकेनोलॉजीलइकनों का अध्ययन
88लिम्नोलॉजीझीलों तथा अलवणीय जलीय पादपों का अध्ययन
89माइक्रोबायलॉजीसूक्ष्म जीवों का अध्ययन
90मार्फोलॉजीपादपों का आकारीय संरचना का अध्ययन
91माइकोलॉजीकवकों (फफूंद) का अध्ययन
92माइकोप्लाजमोलॉजीमाइकोप्लाज्मा का अध्ययन
93निमेटोलॉजीनिमेटोड्स का पादपों का साथ संबंध का अध्ययन
94पेलियोबॉटनीपादप जीवाश्मों का अध्ययन
95पेलिनोलॉजीपरागकणों का अध्ययन
96पैथोलॉजीपादप रोगों व उपचार का अध्ययन
97पिडोलॉजीमृदा का अध्ययन
98पेरासिटोलॉजीपोषिता तथा परजीवियों का संबंध का अध्ययन
99फाइकोलॉजीशैवालों का अध्ययन
100फार्मेकोलॉजीऔषधीय पादपों का अध्ययन
101फिजियोलॉजीविभिन्न पादप जैविक क्रियाओं का अध्ययन
102पॉमोलॉजीफलों का अध्ययन
103एग्रोनोमीफसली पादपों का अध्ययन
104बायोटेक्नोलॉजीप्रोटोप्लास्ट का पृथक्करण एवं संवर्धन का अध्ययन
105रेडिएशन बायोलॉजीविभिन्न उपकरणों का पादपों पर प्रभाव व उत्परिवर्तन का अध्ययन
106फाइटोफिजिक्सभौतिक सिद्धांतों उपापचय में महत्त्व का अध्ययन
107बॉयोकेमिस्ट्रीसजीवों में कार्बनिक पदार्थों का अध्ययन
108वायरोलॉजीविषाणुओं का अध्ययन
109हार्टीकल्चरफल, सब्जियों तथा उद्यान पादपों का संवर्धन का अध्ययन
110मॉलिक्युलर बायोलॉजीन्यूक्लिक अम्लों ( DNA व RNA ) का अध्ययन
111सिल्वीकल्चरवनीय वृक्षों तथा उनके उत्पादों का संवर्धन व अध्ययन
112टिश्यू कल्चरकृत्रिम माध्यम पर ऊतकों का संवर्धन का अध्ययन
113हिस्टोकेमिस्ट्रीकोशिकाओं एवं ऊतकों में विभिन्न रासायनिक पदार्थों की स्थिति का अध्ययन
विज्ञान की प्रमुख शाखाओं के जनक
114जन्तु विज्ञानअरस्तु
115आनुवांशिकीजी. जे. मेण्डल
116विकिरण आनुवांशिकीएच जे मुलर
117आधुनिक आनुवांशिकीबेटसन
118आधुनिक शारीरिकीएंड्रियास विसैलियस
119रक्त परिसंचरणविलियम हार्वे
120वर्गिकीकेरोलस लीनियस
121चिकित्सा शास्त्रहिप्पोक्रेट्स
122उत्परिवर्तनवादह्यूगो डी ब्रीज
123माइक्रोस्कोपीमारसेलो माल्पीजी
124जीवाणु विज्ञानरॉबर्ट कोच
125प्रतिरक्षा विज्ञानएडवर्ड जेनर
126जीवाश्म विज्ञानलिओनार्डो दी विन्ची
127सूक्ष्म जैविकीलुई पाश्चर
128जिरोंटोलॉजीब्लादिमीर कोरनेचेवस्की
129एंडोक्राइनोलॉजीथॉमस एडिसन
130आधुनिक भ्रूणिकीकार्ल ई वॉन वेयर
131वनस्पति शास्त्रथियोफ्रेस्टस
132पादप रोग विज्ञानए. जे. बटलर
133पादप क्रिया विज्ञानस्टीफन हेल्स
134बैक्टिरियोफेजटवार्टव दीहेरिल
135सुजननिकीफ्रांसिस गाल्टन

इसे भी पढ़े► CNG का पूरा नाम इसके गुण, फायदे, नुकसान क्या है

 

Biology Gk in Hindi & Biology One Liner GK

Biology Science GK Questions से सम्बंधित प्रश्न  प्रत्येक One Day Examination में पूछे जाते है ये सभी Previous Year One Liner Question – SSC CGL, BANK, RAILWAYS, RRB NTPC, LIC AAO, और कई अन्य परीक्षाओं की तैयारी के लिए महत्वपूर्ण साबित हो सकते हैं।

इसे भी पढ़े► Book का पूरा नाम- Book ka full form

अक्सर परीक्षा बोर्ड – Biology meaning in Hindi, Father of Biology, Kingdom Classification in hindi, Branches of Science in Hindi से जुड़े महत्वपूर्ण प्रश्न आ जाते है. यहाँ Biology के टॉप 2000+ महत्वपूर्ण प्रश्नोत्तर PDF (2000+ Biology One Liner GK in Hindi ) दी गई है जिसे आप free में ही download कर सकते है.

 

Biology One Liner GK Hindi PDF Download Click 

 

FAQs What Is Biology in Hindi

इस पुरे Article को पढ़ने के बाद भी यदि आपके मन कोई सवाल है तो इस Biology Gk in Hindi QnA की मदद से आपके सारे Doubts Clear हो जायेगे –

 

Q. जीव विज्ञान के जनक कौन हैं?

Ans:- अरस्तू जीवविज्ञान का पिता है। इन्हें फादर ऑफ बायोलॉजी कहा जाता है.

 

Q.जीव विज्ञान की जननी कौन है ( Who is the mother of biology )

Ans:-जीव विज्ञान की मां के रूप में मारिया सिबायला मेरियन ( Maria Sibylla Merian ) को जाना जाता है. इनका जन्म 2 अप्रैल 1647 को फ्रैंकफर्ट में हुआ था. मेरियन ने सत्रहवीं शताब्दी में जर्मनी में वनस्पतियों और जीवों के कुछ महत्वपूर्ण ख़ोज की थी

 

Q.जूलॉजी के जनक कौन हैं?

Ans:-अरस्तू जूलॉजी के जनक हैं।

 

इसे भी पढ़े► NCERT की सभी किताबें हिंदी में

 

Q.वनस्पति विज्ञान के जनक कौन हैं?

Ans:-थियोफ्रेस्टस, पिता का वनस्पति विज्ञान है।

 

Q.रक्त समूहों का पिता किसे कहा जाता है?

Ans:-कार्ल लैंडस्टीनर रक्त समूह का पिता है।

 

Q.वायरोलॉजी के जनक कौन हैं?

Ans:-डब्ल्यू एम स्टेनली वायरोलॉजी के जनक हैं।

 

इसे भी पढ़े►Newspaper का पूरा नाम क्या है – Full Form of Newspaper

आपने What Is Biology in Hindi के इस लेख में क्या सिखा?

यह पोस्ट जीवविज्ञान पढ़ने वाले students के लिए ज्ञानवर्धक है, इसे पढ़ने के बाद आपको Biology का मतलब समझ आ गया होगा “Biology Gk in Hindi Pdf” के इस लेख को पढ़ने के लिए आपका धन्यवाद, हमें उम्मीद है, की आपको यह हिंदी लेख जरूर पसंद आया होगा|

यदि आपने Biology Full Form in Hindi के इस हिंदी-पोस्ट को अच्छे से पढ़ा होगा तो इसमे दी गई जानकारी आपके लिए ज्ञानवर्धक साबित होगी।

इसे भी पढ़े►बल्ब से चलने वाला इंटरनेट यानी Li Fi क्या है

यदि आपको Unhindi की यह Post पसंद आया तो,आप इसे अपने Social Media पर अपने दोस्तों में Share करे, और हमारा उत्साह बढ़ाये| यदि आपको इस Post से सम्बन्धित कोई सवाल सुझाव या कोई त्रुटी हो तो नीचे Comment करें या हमें Contact करे-  (जय हिंदी जय भारत)

Leave a Reply