भारत के 12 महान आविष्कार जिसने दुनिया बदली

हमारा देश भारत आज ग्लोबल दुनिया में अपनी एक महत्वपूर्ण स्थान रखता है, कंप्यूटर और टेक्नोलॉजी के मामले में भारत दुनिया के सभी देशों से लगभग दो कदम आगे है. हाल ही में एक हॉलीवुड मूवी के बराबर के बजट में भारत में अपना मंगल मिशन सफलतापूर्वक लॉन्च किया. इसके अलावा ऐसे और भी कई सारे प्रगति और अविष्कार हैं, जो भारत के द्वारा बनाई गई है या आविष्कार की गई है,

भारत में ऐसे कई महान वैज्ञानिक का जन्म हुआ है जिसने कुछ ऐसे आविष्कार किए जिसने दुनिया को बदल कर रख दिया है, आज हम ऐसे ही कुछ आविष्कार के बारे में जानेंगे, जिनको भारत के वैज्ञानिकों ने बनाया. तो चलिए हम विस्तार से जानते हैं “12 most important inventions in India” के बारे में

भारत में हुए 12 महान आविष्कार | Top 12 Indian Inventions

भारत ने ऐसे कई महत्वपूर्ण आविष्कार पूरी दुनिया को दिए हैं जिसके लिए पूरी दुनिया भारत को धन्यवाद करती हैं, आइए उन आविष्कारों (Indian Inventions) की सूची को देखते हैं जिनका आविष्कार भारत में किया गया.

  • फाइबर ऑपटिक्स का आविष्कार

इंटरनेट और टेक्नोलॉजी के क्षेत्र में उपयोग होने वाले फाइबर ऑप्टिकल एक महत्वपूर्ण आविष्कार है. इंटरनेट में तेजी प्रदान करने के लिए फाइबर ऑप्टिकल से आसान सुरक्षित और सस्ता तरीका शायद कुछ भी नहीं है. इंटरनेट के क्षेत्र में उपयोग होने वाले इस फाइबर ऑप्टिक्स का आविष्कार भारत में ही हुआ है.

Fiber Optical Cable
invention of optical fiber

इस फाइबर ऑप्टिकल का आविष्कार भौतिक विज्ञानी नरिंदर सिंह कपैनी के द्वारा 1952 में किया गया था. इस ऑप्टिकल्स का उपयोग न सिर्फ इंटरनेट के क्षेत्र में बंध के घरों को सजाने और रंग बिरंगी लाइटों, और मेडिकल के क्षेत्र में भी किया जाता है.

  • Trigonometry का आविष्कार

आप Trigonometry mathematics के बारे में जरुर जानते होंगे, इस Trigonometry mathematics की खोज भारत में पांचवी शताब्दी के आखिरी में आर्यभट्ट के द्वारा किया गया था, आर्यभट्ट ना सिर्फ एक महान वैज्ञानिक बल्कि एक महान खगोल विज्ञानी भी थे. आर्यभट्ट (Aryabhata) का जन्म 476 ई. में बिहार के मगध में हुआ था।

  • आयुर्वेद और योग का आविष्कार

वर्तमान समय में आयुर्वेद और योग ऐसी पद्धति बन गई है जिसने लाखों लोगों के जीवन में परिवर्तन लाया है. इस आविष्कार के लिए पूरी दुनिया भारत को योग और आयुर्वेद का जनक मानते हैं. भारतीय इतिहास के अनुसार भारत में आयुर्वेद की शुरुआत लोहा युग से ही शुरू हो गई थी, अब आप यहां अनुमान लगा सकते हैं कि, भारत की चिकित्सा प्रणाली कितनी पुरानी और सभ्य है. भारत में योग की शुरुआत में वैदिक पूर्व काल 1500-500 BCE से ही विकसित हो गई थी.

  • शून्य का अविष्कार भारत में हुआ

जीरो का महत्व शायद हमें बताने की जरूरत नहीं है, करोड़ों रुपए की गणना, या करोड़ों किलोमीटर की दूरी को मापने में सुनने की कितनी अहम भूमिका है यह हम सभी जानते हैं, शायद आज जीरो का आविष्कार नहीं हुआ होता तो, हमारी बड़ी से बड़ी गिनती अधूरी रह जाती और हम किसी भी दूरी या वजन का सटीक गिनती नहीं कर पाते.

2Q==
Invention of zero

जीरो जैसे महत्वपूर्ण गणितीय संख्या का आविष्कार भारत के महान विद्वान ‘ब्रह्मगुप्त‘ के द्वारा किया गया. ब्रह्मगुप्त ने ही शून्य को सिद्धान्तों को प्रस्तुत किया. लेकिन इनसे पहले ही आर्यभट्ट ने शून्य का आविष्कार कर दिया था. इसलिए आर्यभट्ट को ही शून्य का जनक माना जाता है. यह “List of Indian inventions and discoveries” मे से एक है

  • दुनिया की पहली यूनिवर्सिटी

तक्षशिला विश्वविद्यालय को दुनिया की सबसे पहली और सबसे पुरानी विश्वविद्यालय के रूप में जाना जाता है, शायद पूरी दुनिया ने विश्वविद्यालय का Concept हमारे भारत के तक्षशिला विश्वविद्यालय से ली है. यह विश्वविद्यालय तक्षशिला शहर में स्थित था. उस समय तक्षशिला शहर भारत के गांधार जनपद की राजधानी और एशिया के सबसे प्रमुख शिक्षा केंद्र में से एक था इस विश्वविद्यालय को छठी सातवीं शताब्दी में बनाया गया था.

इतिहास के अनुसार चीन के सबसे विख्यात चीनी यात्री ह्वेन सांग ने अपनी किताब में लिखा है कि, तक्षशिला विश्वविद्यालय में लगभग 300 लेक्चर हॉल लाइब्रेरी, लैब, और 200 प्रोफेसर थे जो लगभग 10000 से भी अधिक छात्रों को पढ़ाते थे

  • शैंपू का आविष्कार भारत में हुआ

भारत को आयुर्वेद और चिकित्सा प्रणाली का जनक माना जाता है शायद यही कारण है कि आज दैनिक जीवन में उपयोग होने वाला शैंपू का आविष्कार भारत में हुआ 15 वीं शताब्दी में आयुर्वेदिक पद्धति में आमला सतरीठा फूल जड़ी बूटी और प्राकृतिक तेलों का वर्णन मिलता है. इन्हीं सभी बहुमूल्य जड़ी बूटियों का उपयोग करके शैंपू का आविष्कार किया गया.

पुराने समय में शैंपू को चंपो को कहा जाता था, उस समय इस शब्द का मतलब “चंपी या मसाज या मालिश” हुआ करता था, लेकिन बाद में इसी चंपो नाम को परिवर्तित करके शैम्पू नाम दे दिया गया.

  • पृथ्वी के ऑर्बिट का सटीक समय निर्धारण

पृथ्वी सूर्य की परिक्रमा करती है जिसके कारण मौसम परिवर्तन होता है, पृथ्वी अपनी धुरी पर घूमती है जिसके कारण दिन और रात होती है. लेकिन पृथ्वी सूर्य की परिक्रमा कितने समय में करती है यह दुनिया को बताने वाला देश भारत है. पृथ्वी के ऑर्बिट का सटीक समय का निर्धारण की जानकारी भारतीय खगोल शास्त्री भास्कराचार्य ने 7वीं शताब्दी के दौरान पूरी दुनिया को बताया.

इसके साथ साथ भारतीय खगोल शास्त्री भास्कराचार्य ने नक्षत्र वर्ष की लंबाई और पृथ्वी को सूर्य की परिक्रमा करने में सटीक लगा समय 365.258756484 दिन बताया

  • USB का आविष्कार

भारत में टेक्नोलॉजी के क्षेत्र में भी कई महत्वपूर्ण आविष्कार किए हैं उनमें से एक आविष्कार यूएसबी डाटा केबल का भी है. स्मार्ट फोन और कंप्यूटर में उपयोग होने वाले इस यूएसबी डाटा केबल का आविष्कार अजय भट्ट ने 90 के दशक में किया था. उनके इस अविष्कार के लिए 2013 में यूरोपियन इन्वेंटर अवॉर्ड भी दिया गया.

Z
invention of usb
  • बटन का आविष्कार

शर्ट पैंट या जींस में हमें दिखने वाला सबसे आसान और मामूली सा उपकरण जिसे हम बटन के नाम से जानते हैं. बटन एक बहुत ही छोटा और मामूली सा आविष्कार है लेकिन यही बटन अगर टूट जाए तो शायद आपकी पेंट नीचे गिर भी सकते हैं. इसलिए इसे मामूली और साधारण आविष्कार ना करें तो ही अच्छा है.

सस्ते और मामूली दिखने वाले बटन का आविष्कार भारत में हुआ है, इस बात का प्रमाण सिंधु घाटी सभ्यता से मिलता है. सिंधु घाटी सभ्यता में हुई खुदाई के दौरान मिली कुछ साक्ष्य के अनुसार, 5000 साल पहले बटन के रूप में सीप (oyster) का उपयोग किया जाता. पुराने समय में बटन एक लाइन में नहीं लगाए जाते थे लेकिन 21 वीं शताब्दी में जर्मनी में इसका इस्तेमाल बहुत अधिक होने लगा.

  • कॉटन का आविष्कार

कॉटन के आविष्कार से पहले पूरी दुनिया में गर्म कपड़ों के बदले जानवरों की खाल पहनी जाती थी. लेकिन भारत में हुए कपास की खोज ने जानवरों की खाल के बदले रंग-बिरंगे स्वेटर और जैकेट ने ले लिया. भारत में कपास की खोज पांचवी और चौथी शताब्दी ईसा पूर्व में की गई. इस बात का प्रमाण सिंधु घाटी सभ्यता से लगता है.

Z
invention of cotton

भारत में उगाई जाने वाले अन्य प्राकृतिक रेशों जैसे कपास जूट और ऊन शामिल है. ऊनी शॉल बनाने के लिए कश्मीरी ऊन की जरूरत होती है जो केवल कश्मीर में ही मिलती है.

  • चांद पर पानी की खोज

हमारी पूरी पृथ्वी पर 73% पानी है, लेकिन चांद पर पानी खोजने का श्रेय भारत को जाता है. भारत द्वारा भेजे गए एक चंद्रयान मिशन ने चांद पर जा कर यह पता लगाया कि चांद पर पानी का भी स्रोत है. चांद पर पानी की खोज का पता चंद्र मिशन 2008 और 2009 के दौरान भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन के द्वारा भेजे गए चंद्रयान मिशन से लगा.

  • प्लास्टिक और मोतियाबिंद सर्जरी का आविष्कार

भले ही आज दुनिया के कई देशों के पास चिकित्सा और सर्जरी के कई ऐसा साधन मौजूद है जो आज भारत के पास नहीं है लेकिन, जब सर्जरी के आविष्कार या खोज की बात आती है तो, भारतीयों ने दुनिया के अन्य देशों के मुकाबले 2000 साल पहले ही सर्जरी, प्लास्टिक और मोतियाबिंद सर्जरी में महारत हासिल कर चुके थे

जब सर्जरी और सर्जरी के विशेष उपकरणों के उपयोग की बात आती है, तो भारतीयों ने दुनिया के बाकी हिस्सों से 2000 साल पहले इसके उपयोग में महारत हासिल कर ली थी। यह वैदिक काल के दौरान था और अभी भी 21वीं सदी में इसका अभ्यास और सुधार किया जाता है।

महान चिकित्सक वैज्ञानिक सुश्रुत छठी शताब्दी ईसा पूर्व में ही चिकित्सा संबंधी कई आविष्कार की है, जिनमें प्लास्टिक सर्जरी और मोतियाबिंद सर्जरी जैसे चिकित्सा आविष्कार महत्वपूर्ण है

भारत में किए गए महान आविष्कार (Indian Inventions in Hindi)

हमें उम्मीद है, की 12 भारतीय आविष्कार (Top 12 Indian Inventions in Hindi) से जुड़ा यह पोस्ट आपको आपको जरूर पसंद आया होगा. यदि आपके मन में What are the 10 most important invention? से जुड़े कोई भी प्रश्न, सलाह या सुझाव हो तो, Comment के माध्यम से हमें लिख सकते हैं, आपके इन्हीं Comment के माध्यम से हमें अपने Blog website में बहुत कुछ सीखने, सुधारने और बेहतर करने का मौका मिलता है.

यदि आपको “List of Indian inventions and discoveries in hindi” से संबंधित जानकारी Detailed में मिली और Helpfull लगी तो, कृपया इस पोस्ट को social network sites जैसे facebook twitter और whatsapp पर जरूर Share करें. और यदि आप ऐसे ही Smartphone Gadgets, computer, Technology, Tips and Tricks, Finance, और Full Form से जुड़े पोस्ट पढ़ना चाहते हैं, तो हमारे इस Unhindi.com को जरूर Subscribe करें. हमारे ब्लॉग को पढ़ने और हमसे से जुड़ने के लिए आपका धन्यवाद

Leave a Reply